कार्यमुक्ति @ 26

“कार्यमुक्ति 26 की वय में” पुस्तक

कार्यमुक्ति 26 की वय में” पुस्तक किनके लिये है

यह सिर्फ फेलुअर्स के लिये है जिनका कर्ज, बीमारी, दहैज, दुविधा, दुर्घटना या उसकी दुश्चिंता से कभी साबका पड़ा है.
यह उनके लिये भी है जो वास्तव में कुछ अच्छा या बड़ा करना चाहते हैं
जो बेहतर समृद्ध पारिवारिक जीवन बिताना चाहते हैं.
जो समाज की बेहतरी का आधार बनना चाहते हैं
जौ मातृभूमि के हित से, अपना हित भी हासिल करना चाहते हैं


कार्यमुक्ति 26 की वय में” पुस्तक किनके लिये नहीं है

जिन्हे हमेशा ठण्डा और बासी खाना अच्छा लगता है
जिन्हें आत्मौन्नति, मातृभूमि, राष्ट्रहित और मानवता से चिढ है
जो कभी फैल नंही हुए
जिनको कभी भी बैरोजगारी का कष्ट नहीं हुआ
जिनने कभी कौई दूर्घटना नंही देखी न झेली.
जिनके यहां कभी भी कौई बीमार नहीं हुआ.
जिनके यहां कभी भी कौई कर्ज से त्रस्त या ग्रस्त नहीं हुआ
जो कभी दुविधा या दुश्चिंता से ग्रस्त नहीं हुए
जिन्हे हमेशा भीड़ के धक्के और इन्तजार की लम्बी लाइन अच्छी लगती है
जिन्हें साफ पानी से चिढ है और नहाना कभी अच्छा नहीं लगता




जो पास हो चुके, की तुलना में, परीक्षा में असफल के लिये "कार्यमुक्ति 26 की वय में” अन्तिम पुस्तक है;
जिसकी मदद से, उन से अधिक तेजी से, उनसे बड़ी सफलता हासिल कर पायेंगे.

जो पास हो चुके, वो अभी अगले 2 से 5 साल, और पढने में, समय लगायगें. उसके बाद अच्छा जॉब, ढूढनें में, और पढाई का कर्जा चुकाने में 1 से पाच साल लगायेंगे.
और फिर अगले 15 से 25 साल, घर का कर्जा वापस करने में लगायेंगे.
जो फेल हो चुके उन्हें अन्तिम पढाई सिर्फ कार्यमुक्ति 26 की वय में” पुस्तक की करनी है; जिससे 26 की उमर में, घर परिवार के, मालिक और मुखिया बनकर, समृद्ध जिन्दगी जी सकें. जब तक पास होने वाले अपनी पढाई का कर्ज भी शायद ही वापस कर पायें.502 reads